Indian Railway main logo Welcome to Indian Railways National Emblem of India
On an average, IR bears 43% of cost of your travel

भारतीय रेल के बारे में

रेल कर्मियों के लिए

यात्रियों के लिए महत्वपूर्ण जानकारी

मालभाड़ा संबंधी जानकारी

समाचार एवं भर्ती सूचना

निविदाएं

हमसे संपर्क करें



 
Bookmark Mail this page Print this page
QUICK LINKS
रेल विद्युतीकरण

रेल विद्युतीकरण
विद्युत कर्षण यातायात का एक पर्यावरण अनुकूल, प्रदूषण-मुक्त और ऊर्जा संरक्षित करने वाला माध्यम है और ऊर्जा के स्रोत के रूप में ईंधन बचाने का एक उत्कृष्ट विकल्प है। भारतीय रेलवे में 1925 में 1500 वोल्टे डीसी के साथ विद्युतीकरण की शुरुआत हुई थी, उसके बाद इसे बढ़ाकर 3000 वोल्ट डीसी किया गया। 1936 तक 388 रूट कि.मी. विद्युतीकृत हो चुका था। 1957 में, भारतीय रेलवे ने 25 कि.वा.एसी कर्षण को अपनाने का निर्णय लिया, और, इस प्रकार एक नियोजित तरीके से चुनिंदा मेन लाइनें और हाई डेन्सिटी मार्गों के विद्युतीककरण का कार्य शुरु हुआ। आज, मुंबई, कोलकाता, नई दिल्ली और चेन्नई को जोड़ने वाले सात बड़े ट्रंक रूट पूरी तरह विद्युतीकृत हैं, और दो अन्य रूटों कोलकाता-चेन्नई और मुंबई-चेन्नई का कार्य प्रगति पर है।
साथ ही,  मध्य और दक्षिण पूर्व रेलवे के बीना-कटनी, अनूपपुर-बिसरामपुर/चिड़ीमिड़ी सेक्शनों पर 1995 में 2x25 केवी कर्षण के आटो ट्रांसफारमर सिस्टम लगे गए हैं।
विद्युत कर्षण से बड़ी मात्रा में आयातित डीजल ऑयल पर से देश की निर्भरता कम हुई है, क्योंकि अब प्राथमिक ऊर्जा, जैसे किसी भी ग्रेड का कोयला, हायडल पावर, सरप्लस पेट्रोलियम गैस, परमाणु ऊर्जा आदि, से देश में ही उपलब्ध वैकल्पिक विकल्पों का उपयोग किया जाने लगा है।
इस समय भारतीय रेलवे के कुल रूट कि.मी. का 25.39% भाग विद्युतीकृत है। पिछले वर्षों में भारतीय रेलवे पर विद्युतीकरण की प्रगति इस प्रकार रही है:
 
 
अवधि
विद्युतीकृत रूट कि.मी.
स्वतंत्रता प्राप्ति से पूर्व (1925-1947)
388
I पंचवर्षीय योजना (1951-56)
141
II पंचवर्षीय योजना (1956-61)
216
III पंचवर्षीय योजना (1961-66)
1678
Annual Plan (1966-69)
814
IV पंचवर्षीय योजना (1969-74)
953
V पंचवर्षीय योजना (1974-78)
533
Inter Plan (1978-80)
195
VI पंचवर्षीय योजना (1980-85)
1522
VII पंचवर्षीय योजना(1985-90)
2812
Annual Plan (1990-92)
1557
VIII पंचवर्षीय योजना (1992-97)
2708
IX पंचवर्षीय योजना (1997-2002)
2484
31.03.2002 को कुल
16001
 
 
 
31.03.02 को
 भारत के मानचित्र पर रेल विद्युतीकरण की स्थिति जानने के लिए यहां क्लिक करें।
 
विद्युतीकृत रूट किलोमीटर की राज्य-वार स्थिति
 
क्.सं.
राज्य
कुल रूट कि.मी.
विद्युतीकृत      रूट कि.मी.
प्रतिशत
1.
आंध्र प्रदेश
5135
2012
39.18
2.
बिहार
3441
631
18.34
3.
छत्तीसगढ़
1180
861
72.97
4.
दिल्ली
200
129
64.50
5.
गुजरात
5312
706
13.29
6.
हरियाणा
1547
366
23.65
7.
हिमाचल प्रदेश
269
23
8.55
8.
झारखंड
1797
1562
86.92
9.
कर्नाटक
2974
104
3.50
10.
केरल
1050
199
18.95
11.
Madhya प्रदेश
4785
1880
39.29
12.
महाराष्ट्र
5459
1942
35.57
13.
उड़ीसा
2310
800
34.63
14.
पंजाब
2102
242
11.51
15.
राजस्थान
5925
491
8.29
16.
तमिलनाडु
4188
967
23.08
17.
उत्तर प्रदेश
8571
1394
16.26
18.
प.बंगाल
3661
1692
46.21
19.
अन्य राज्य
3122
-
-
कुल
63028
16001
25.39
 
 
रेल विद्युतकरण परियोजनाएं एक नज़र में
 
 
परियोजना का नाम
रेलवे
राज्य
रूट कि.मी.
1.
उत्तर/पूर्वोत्तर रेलवे के मल्होर-सफेदाबाद-बाराबंकी सहित लखनऊ क्षेत्र के आसपास सर्कुलर रेलवे
उ./पूर्वो.
उत्तर प्रदेश
53
2.
कुसुंडा-जमुनियाटांड
पू.रे.
झारखंड
23
3.
बरसात-हसनाबाद
पू.रे.
प.बंगाल
52
4.
भुवनेश्वर-कोट्टावालसा
द.पू.रे.
उड़ीसा एवं 
आंध्र प्रदेश
426
5.
बोकारो स्टील सिटी-मूरी-हटिया-बोंडामुंडा-बरसौन/किरीबुरु सहित पुरुलिया-कोटशिला
द.पू.रे.
झारखंड, उड़ीसा एवं 
प.बंगाल
434
6.
पटना-गया
पू.रे.
बिहार
92
7.
अंबाला-मुरादाबाद
उ.रे.
हरियाणा, उत्तर प्रदेश
274
8.
खड़गपुर/नीमपुरा-भुवनेश्वर सहित तालचेर-कटक-पारादीप की ब्रांच लाइन
द.पू.रे.
प.बंगाल एवं उड़ीसा
540
9.
ऊधना-जलगांव
प.रे.
गुजरात एवं महाराष्ट्र.
306
11.
रेणिगुंटा-गुंतकल
द.म.रे.
आंध्र प्रदेश
308
12.
लुधियाना-अमृतसर
उ.रे.
पंजाब
136
13.
एर्णाकुलम-तिरुवनंतपुरम
द.रे.
केरल
320
14.
कृष्णानगर-लालगोला
पू.रे.
प.बंगाल
128
15.
दिल्ली-सराय रोहिल्ला-गुड़गांव
उ.रे.
दिल्ली एवं हरियाणा
30
16.
मुगलसराय-जफराबाद
उ.रे.
उत्तर प्रदेश
68
17.
खुर्जा-मेरठ-सहारनपुर
उ.रे.
उत्तर प्रदेश
207
 
 
 




Source : रेल मंत्रालय (रेलवे बोर्ड) CMS Team Last Reviewed on: 17-02-2011  


  प्रशासनिक लॉगिन | साईट मैप | हमसे संपर्क करें | आरटीआई | अस्वीकरण | नियम एवं शर्तें | गोपनीयता नीति Valid CSS! Valid XHTML 1.0 Strict

© 2010  सभी अधिकार सुरक्षित

यह भारतीय रेल के पोर्टल, एक के लिए एक एकल खिड़की सूचना और सेवाओं के लिए उपयोग की जा रही विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं द्वारा प्रदान के उद्देश्य से विकसित की है. इस पोर्टल में सामग्री विभिन्न भारतीय रेल संस्थाओं और विभागों क्रिस, रेल मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा बनाए रखा का एक सहयोगात्मक प्रयास का परिणाम है.